कपालभांति प्राणायाम इन हिंदी | kapalbhati kaise kare.

कपालभांति प्राणायाम इन हिंदी | kapalbhanti kaise kare | kapalbhati Pranayam in Hindi - कपालभांति प्राणायाम को सभी प्राणायाम से श्रेष्ठ माना जाता है। यह एक आसान और सभी तरह के रोगों से छुटकारा दिलाने वाला प्राणायाम है। कपालभांति - कपाल यानी ललाट और भांति यानी प्रकार या ज्योति से है। 
यह वह प्राणायाम है जो आपके शरीर में मौजूद तमाम रोगों का नाश कर आपके चेहरे या ललाट के तेज को बड़ता है। 
कपालभांति प्राणायाम इन हिंदी | kapalbhati kaise kare.
इसे कपालशोधन के नाम से भी जाना जाता है जिसका सीधा अर्थ मस्तिष्क के शुद्धिकरण से है। यह प्राणायाम आपके लिए संजीवनी का काम करता है। 
यदि आपके पास योग और प्राणायाम के लिए अधिक समय नहीं है फिर भी आप कपालभांति का कुछ समय निरंतर अभ्यास से ही अपने आप को स्वस्थ और खुशहाल बनाए रख सकते हो।
(और पढ़ें : अनुलोम विलोम कैसे करें)

कपालभांति प्राणायाम इन हिंदी | kapalbhanti kaise kare.

कपालभांति प्राणायाम कैसे करें {kapalbhati kaise kare} -

यह सबसे आसान और महत्वपूर्ण प्राणायाम है इसे करने के लिए कुछ चरण हैं जिन्हें ध्यान से पढ़ें और उचित ढंग से कपालभांति करें।
  1. सबसे पहले अपने लिए एक आरामदायक आसन चुने इसके लिए आप किसी भी आसान चुनाव कर सकते हो जैसे - पद्मासन, सुखासन आदि।
  2. इसके अलावा आप अपनी सामान्य स्थति में भी पाल्थी मारकर सकते हो।
  3. इसके बाद आपका दांया हाथ दायां पैर के घुटनों पर हो और बायां हाथ बाएं पैर के घुटनों पर हो। आपकी गर्दन और पीठ बिल्कुल सीधी हो शरीर ढीला और सामान्य हो।
  4. 1 से 2 मिनट तक इसी स्थति में रहे और गहरी सांस लें और छोड़ें। इससे आपको आरामदेह स्थति का अनुभव होगा।
  5. इसके बाद कपालभांति प्राणायाम शुरू करें इसके लिए अपने शरीर को सामान्य रखते हुए सांस अंदर लें और छोड़ें।
  6. सांस छोड़ते समय हवा बाहर निकालने के लिए अपनी आंतों का जोर लगाए इससे सांस थोड़ी तीव्रता से बाहर निकलेगा।
  7. यह सांस लेने और छोड़ने की क्रिया 1 सेकेंड की होती है जिसे 1 मिनट में 60 बार करना होता है। सांस लेते समय सामान्य रूप से सांस ले किसी प्रकार की तीव्रता या जोर का प्रयोग ना करें।
  8. एक बार में यह प्राणायाम आप 5 मिनट तक कर सकते हो, अगर आप कपालभांति प्राणायाम के अनुभवी हो तो 10 मिनट से लेकर 20 मिनट या इससे अधिक समय तक किया जा सकता है।

कपालभांति प्राणायाम के लाभ {kapalbhati ke fayde} -

कपालभांति हमारे लिए अनेकों प्रकार से फायदेमंद है, यह एक संजीवनी की तरह है जो अनेकों रोगों से छुटकारा दिलाकर हमे रोगमुक्त और स्वस्थ बनाता है। कपालभांति सभी प्राणायाम और योग साधना से श्रेष्ठ माना जाने वाला प्राणायाम है।

मस्तिष्क की शुद्धि के लिए -

अगर आप चाहते हो कि आपका मस्तिष्क शांत सुविचारों वाला हो तो कपालभांति प्राणायाम सबसे बेहतर और आसान तरीका है। आप हर रोज इस प्राणायाम को करें और देखें कैसे आपका मनोबल मजबूत बनता है, कैसे आपमें सकारात्मक भावनाओ का विकाश होता है। यह प्राणायाम आपको अनेकों तरह की मस्तिष्क से संबंधित व्याधियों से छुटकारा दिलाकर हमेशा प्रसन्नचित और प्रपुल्लित रखता है इस प्राणायाम को करने वाले व्यक्ति के ललाट पर तेज और चेहरे पर लालिमा का विकाश होता है।

वजन कम करने के लिए -

वजन कम करने के लिए कपालभांति प्राणायाम सबसे बेहतर और कारगर तरीका है। इस प्राणायाम की मदद से अनेकों लोगों ने अपना आधे से ज्यादा वजन कम किया है। बिना की दवा और एक्सरसाइज करे। अगर आप चाहते हो कि आपका वजन हमेशा नियंत्रण में रहे तो आप इस प्राणायाम से अपनी दिनचर्या की शुरुआत कर सकते हो। वजन कम करने के लिए आपको इससे बेहतर और आसान तरीका नहीं मिलेगा। तो आज से पूरे मन के साथ इस प्राणायाम की शुरुआत करें।

दिल को चुस्त और दुरुस्त रखने के लिए -

आपमें हृदय से संबंधित कोई भी परेशानी हो यह प्राणायाम उन सभी व्यधाओ के लिए एक रामबाण औसधि की भांति कार्य करेगा। यदि आपका दिल कमजोर है, हृदय की कार्य क्षमता में कमी है या हृदय में किसी प्रकार का ब्लॉकेज है या कोई घातक बीमारी है सभी के लिए कपालभांति प्राणायाम एक संजीवनी की तरह कार्य करेगा।

फेफड़ों के लिए -

यदि आपके फेफड़े कमजोर हैं या किसी भी तरह की समस्या से ग्रस्त हैं तो स्थति में यह प्राणायाम करें। आपको लाभ जरूर मिलेगा। धूम्रपान आदि के वजह से लोगों के फेफड़े बहुत अधिक खराब हो जाते है तथा उनमें जहरीला पीक इकठ्ठा होता रहता है। ऐसे लोगों के लिए यह प्राणायाम बहुत ही जरूरी है। इस प्राणायाम की मदद से आपका अपने मन पर कंट्रोल बढ़ेगा और मन को शांति मिलेगी जिससे आप धूम्रपान जैसी बुरी आदतों पर विजय पा सकते हो। और यह आपके फेफड़ों को दुबारा चुस्त और दुरुस्त करने के लिए एक टॉनिक की तरह कार्य करेगा।

त्वचा के लिए -

अगर आप चाहते हो कि आपकी त्वचा में चमक आए और हमेशा स्वस्थ रहे तो नियमित रूप से आपको कपालभांति प्राणायाम जरूर करना चाहिए। कपालभांति प्राणायाम से अपने दिन की शुरुआत करने वाले लोगों की त्वचा हमेशा स्वस्थ, चमकदार और निखरी हुई रहती है। त्वचा से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या से परेशान नहीं होना पड़ता।

पथरी के लिए -

पथरी के रोगियों को अक्सर कपालभांति प्राणायाम की सलाह दी जाती है। यह पथरी के लिए काल कहे जाने वाला प्राणायाम है जो आपमें कभी पथरी बनने ही नहीं देगा। और यदि आपमें पहले से ही पथरी है तो जरूर यह प्राणायाम करके देखें आपको पता भी नहीं चलेगा और सारा कचरा मूत्रमार्ग से होकर बाहर निकल जाएगा।

हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ बनाए रखने के लिए -

कपालभांति प्राणायाम करने वाले व्यक्ति की हड्डियां मजबूत और स्वस्थ रहती है। यह प्राणायाम हड्डियों के लिए जरूरी सभी पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए बेहतर तरीके से काम करता है।

यादाश्त को बनाए रखने के लिए -

एक अच्छी और बेहतर यादाश्त पाने के लिए आपको कपालभांति प्राणायम जरूर करना चाहिए। यह आपके भूलने की समस्या को हमेशा हमेशा के लिए आपसे दूर कर देगा। आपको चीजें अच्छे से समझ आने लगेंगी और उन्हें आप बेहतर ढंग से याद रख सकते हो। इसीलिए विद्यार्थियों को यह प्राणायम करवाया जाता है या इसकी सलाह दी जाती है।

कुंडली जागरण के लिए -

कुंडली जागरण में कपालभांति प्राणायाम की अहम भूमिका होती है। कुंडलियों को जाग्रत करने के लिए यह प्राणायाम आपका बेहतर तरीके साथ देता है। बिना कपालभांति प्राणायाम के कुंडली जागरण करना बहुत मुश्किल है।

कैंसर के लिए -

कोई भी व्यक्ति यदि किसी भी प्रकार की गांठ या कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से पीड़ित है तो उसे रोज कपालभांति प्राणायाम जरूर करना चाहिए। इस प्राणायाम की मदद से आपके शरीर में मौजूद सभी तरह की गांठें खत्म होगी और शरीर में शुद्ध रक्त का संचार होगा। जिससे इस तरह की समस्या जड़ से दूर हो जाएंगी।

हाई बीपी और लो बीपी के लिए -

आज की जीवनशैली और खानपान के कारण रक्तचाप में कमी या अधिकता होना आम समस्याएं होती जा रही है। जिन लोगों में यह समस्याएं है उनके लिए कपालभांति प्राणायाम एक बेजोड़ औषधि है। जो हमेशा रक्तचाप को नियंत्रित रखता है। अगर आप अपने दिन की शुरुआत इस प्राणायाम से करते हो तो आपमें ब्लड प्रेशर की किसी भी तरह की समस्या नहीं होगी।

ब्लॉकेज हटाने के लिए -

अगर आपकी रक्त वाहिनियों में कोई ब्लॉकेज है तो इस स्थति में आपको कपालभांति प्राणायाम जरूर करना चाहिए। यह आपके रक्त परिवहन में बाधित सभी ब्लॉकेज को आसानी से खत्म कर आपको कई तरह की घातक समस्याओं से बचने में मदद करेगा।

रक्त के शुद्धिकरण के लिए -

रक्त शुद्धिकरण का यह सबसे आसान तरीका है। अगर आप चाहते हो कि आपका रक्त साफ और स्वच्छ हो तो इसके लिए कपालभांति प्राणायम जरूर करें। यह आपके रक्त को पूरी तरह साफ कर आपको कई तरह की समस्याओं से बचाता है।

डायबिटीज़ के लिए -

मधुमेह के रोगियों के लिए कपालभांति प्राणायाम सबसे अच्छा और सही प्राणायाम है। यह प्राणायाम आपके रक्त में इंसुलिन का स्रावित करने वाली ग्रंथि को हमेशा सुचारू रखता है। जिससे आपको बाहर से इंसुलिन लेने की जरूरत नहीं पड़ती। डायबिटीज़ से लड़ने और इस समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पाने में यह प्राणायाम आपकी बहुत अधिक मदद करता है। अतः मधुमेह जैसी बीमारी को दूर करने के लिए अपनी दिनचर्या में कपालभांति प्राणायाम को जरूर शामिल करें।

मानसिक रोगों के लिए -

अगर आप चाहते हो कि आप दिमागी रूप से हमेशा चुस्त और दुरुस्त रहें तो कपालभांति प्राणायाम जरूर करें। यह आपको मानसिक और शारीरिक हर तरह मजबूती प्रदान करता है।

बालों की सेहत के लिए -

बालों की अच्छी सेहत के लिए कपालभांति प्राणायाम एक बेहतर विचार हो सकता है। यह आपके बालों को काला, घना और सेहतमंद बनाने में अपनी अहम भूमिका अदा करता है। अगर आप बाल झड़ने, रूसी, सफेद बाल आदि समस्याओं से परेशान हो तो आपको हर रोज कपालभांति प्राणायाम जरूर करना चाहिए।

आंखों के लिए -

कपालभांति प्राणायाम आपकी आंखों के लिए काफी सेहतमंद है। अगर आप चाहते हो कि आपकी नजर हमेशा तेज रहे तो यह प्राणायाम आपको जरूर करना चाहिए।

यौन रोगों के लिए -

महिला व पुरुषों में होने वाले अनेक प्रकार के यौन रोगों के लिए यह प्राणायाम रामबाण औषधि कहा जाता है। जैसे कि - महिलाओं में अनियमित माहवारी, माहवारी के समय असहनीय पीड़ा, स्वेत प्रदर, बांझपन वहीं पुरुषों में स्पर्म काउंट कम होना, शीघ्रपतन जैसी अनेकों समस्याओं में कपालभांति प्राणायाम एक अचूक उपचार है। अगर आप चाहते हो कि आप इन तमाम समस्याओं से हमेशा दूर रहें, तो आपको यह प्राणायाम अपनी दिनचर्या में जरूर शामिल करना होगा।

हार्मोनल संतुलन बनाए रखने के लिए -

कई बार महिलाओ को हार्मोनल असंतुलन के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जिनकी वजह से उनकी निजी जिंदगी में बहुत सी समस्याएं झेलनी पड़ती है इन सब से बचने और एक सेहतमंद जिंदगी जीने के लिए अपने दिन की शुरुआत कपालभांति प्राणायाम करें।

चिंता और तनाव दूर करने के लिए -

यह मन को शांत और खुशनुमा बनाने वाला प्राणायाम है। जो आपमें मौजूद चिंता और तनाव जैसी समस्याओं को दूर करेगा।

स्वस्थ जीवन के लिए -

हर व्यक्ति यह चाहता है कि वह हर प्रकार स्वस्थ रहे। हर प्रकार की छोड़ी बड़ी बीमारियों से हमेशा दूर रहे। सभी छोटी बड़ी शारीरिक और मानसिक परेशानियों से बचने के लिए कपालभांति प्राणायाम करें। यह आपके लिए सबसे बेहतर और आसान तरीका है। 
इस प्राणायाम को सभी योग, साधना और प्राणायाम का राजा कहा जाता है। 
अकेला यह प्राणायाम 200 से भी ज्यादा बीमारियों से लड़ने के लिए एक मजबूत हथियार है। 
अतः सभी को अपने पूरे दिन में से केवल 20 मिनट इस प्राणायाम को देनी चाहिए। ताकि अनेकों तरह की बीमारियों से बचा जा सके।

कपालभांति प्राणायाम के लिए सावधानियां -

कपालभांति प्राणायाम के लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना है जैसे कि -
  1. प्राणायाम करते समय जल्दबाजी बिल्कुल भी ना करें। स्वाभाविक और सही तरीके से प्राणायाम करें।
  2. कपालभांति प्राणायाम केवल खाली पेट ही करें इसके लिए सुबह का समय ज्यादा बेहतर होता है।
  3. अगर आपने हाल ही में कोई सर्जरी करवाई है तो यह प्राणायाम न करें।
  4. गर्भवती महिला यह प्रणायाम किसी अच्छे प्रशिक्षक की देखरेख में ही करें।
  5. अगर प्राणायाम करते समय आपको चक्कर आते हैं तो पांच पांच मिनट की आवृत्ति में यह प्राणायाम करें।
  6. प्राणायाम करते समय शरीर सीधा लेकिन आरामदेह स्थति में होना चाहिए।
अगर आप इस संबंध में बेहतर जानकारी रखते हो तो कृपया हमारे साथ जरूर साझा करें - कपालभांति प्राणायाम इन हिंदी, kapalbhati ke kya benefits hai, कपालभाति प्राणायाम कैसे करें, kapalbhati aasan, kapalbhati Pranayam in Hindi,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें