एड्स का पक्का इलाज 2020 | Aids Ke Lakshan | Aids Kaise Hota Hai | Hiv Ka Ilaj | Hiv Ke Lakshan.

एड्स का पक्का इलाज 2020 | Aids Ke Lakshan | Aids Kaise Hota Hai | Hiv Ka Ilaj | Hiv Ke Lakshan - यदि आप सर्च कर हो hiv aids का इलाज, लक्षण, कारण, और बचाव तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हो क्योंकि यहाँ हमने आपको बताया है - एड्स का पक्का इलाज, hiv के लक्षण, और भी बहुत कुछ जो आपको कहीं नहीं मिलेगा, तो जानने के लिए बने रहिये हमारे साथ और hiv aids की लाइलाज बीमारी को दीजिये मुंह तोड़ जवाब। 
एड्स का पक्का इलाज 2020 | Aids Ke Lakshan | Aids Kaise Hota Hai | Hiv Ka Ilaj | Hiv Ke Lakshan.

एड्स का पक्का इलाज 2020 | Aids Ke Lakshan | Aids Kaise Hota Hai | Hiv Ka Ilaj | Hiv Ke Lakshan.

Hiv aids एक ऐसी बीमारी है जो एक बार किसी के शरीर में घुसने के बाद व्यक्ति को पूरी तरह ख़त्म करके ही दम लेती है, आज के समय में पूरे संसार में 350 करोड़ लोग इस बीमारी के शिकार है, जिनमे से लगभग 3 करोड़ लोगों का इलाज चल रहा है, भारत में लगभग 2.5 करोड़ लोग इस गम्भीर बीमारी की चपेट में है अब तक इस गम्भीर महामारी का कोई इलाज नहीं था, लेकिन हाल ही में विकसित एंटीरिट्रोवायरल दवाओं से यह कुछ हद तक संभव हो पाया है, लेकिन ये दवाए इतनी महँगी हैं की इन्हे लेने की हर किसी की बस की बात नहीं है। {जैतून के तेल के चमत्कारी फायदे}
अभी भी इस गम्भीर महामारी के ऊपर रीसर्च जारी है बेहतर को और भी बेहतर बनाए जाने की कोशिश चल रही है, वैसे भी एंटीरेट्रोवायरल दावाओं के बहुत सारे साइड इफ़ेक्ट देखें गए है जिन्हे नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है उन्हें सुधारने की हर संभव कोशिश की जा रही है वहीं दूसरी और अफ्रीका में इस गम्भीर बीमारी को लेकर एक और दवा विकसित की जा रही है दावा है की यह पहले से मौजूद दवाओं से बेहतर होगी और इससे hiv एड्स पूरी तरह ठीक किया जा सकता है।
वहीँ दूसरी और संयुक्त राज्य अमेरिका के रीसर्च कर्ताओ की रीसर्च के मुताबिक गाय के अंदर ऐसे प्रतिरक्षी (एंटी बॉडीज) पाए गए है जिनसे इस लाइलाज बीमारी को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है, गाय पर किये गए परिक्षण में यह बात सामने आई है, क्योंकि जब गाय को hiv का इंजेक्शन देकर उसे संक्रमित किया गया तो गाय में मौजूद प्रतिरक्षी (एंटी बॉडीज) ने उस hiv संक्रमण को सिर्फ 28 दिनों में ही कवर कर लिया और सारे hiv को नष्ट कर दिया, दावा किया गया की गाय के पंचामृत यानि दूध, घी, मल, मूत्र, और धहि का लम्बे समय तक इस्तेमाल किया जाये तो hiv एड्स पर विजय पाना संभव है।
वहीं अगर हम अपने ऋषि मुनियों की बात करें तो उन्होंने कई ऐसे इलाज और औषधियां बताई है जिनसे  बड़ी से बड़ी लाइलाज बीमारी पर फतह पायी जा सकती है, यहाँ भी हम आपको कुछ ऐसी ही औषधियों और इलाज के बारे में बताने वाले है जिनका रिजल्ट 100% पॉजिटिव ही मिलेगा।
इससे पहले हम आपको hiv एड्स के बारे में कुछ बेसिक जानकारी देना चाहते है ताकि आप पूरी तरह जान सकें की यह क्या होता है क्या इसके बचाव है क्या लक्षण है और कितने दिन में इसे कंट्रोल किया जा सकता है - {कब्ज का अचूक रामबाण इलाज}

HIV AIDS क्या होता है

दोस्तों यह सवाल कई बार उठता है की आखिर इस बीमारी से होता क्या है, इसके लक्षण (symptoms) हमें कितने दिनों बाद दिखाई देते है, इसे कितने दिनों में ख़त्म किया जा सकता है, किन लोगों में होती है, तो इन सभी सवालों के जवाब आपको जरूर मिलेंगे. दिखिए hiv aids एक बहुत ही घातक बीमारी जिसका पूरा नाम अक्वायर्ड इम्यूनोडिफिशिएंसी सिंड्रोम है जैसे की इसके नाम से ही पता चलता है इम्यून डेफिशियेंसी यानी की हमारे इम्यून पावर यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी हो जाती है इसका एक कारक होता है hiv यानि की ह्यूमन इम्यूनोडिफिशिएंसी वायरस जो धीरे धीरे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को ख़त्म कर देता है जिससे हमारे शरीर में अनेक तरह की बीमारिया घर कर लेती है, क्योंकि हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता तो ख़त्म हो चुकी होती है और जो भी रोग होता है होता ही चला जाता है। अनेक तरह की बिमारियों से घिर जाने और उनके प्रति प्रतिरक्षी (एंटी बॉडीज) ना बना पाने की वजह से व्यक्ति की धीरे धीरे मृत्यु हो जाती है। {ब्रैस्ट कैंसर के लक्षण कारण और इलाज}

HIV AIDS के लक्षण -

Hiv aids के लक्षण दिखाई देने में तीन चार साल का और कभी कभी 8 - 10 साल का भी समय लग जाता है और इसका विंडो पीरियड (window period) एक महीने से लेकर पांच छः महीने तक का होता है, यह मरीज के शरीर के ऊपर होता है की कितने दिन में इसका सही पता लगाया जा सकता है, विंडो पीरियड का मतलब होता है की जिस समय व्यक्ति hiv से संक्रमित होता है उस समय से लेकर टेस्ट (लेबोरेटरी टेस्ट) के द्वारा सही सही पता लगाया जा सके उस समय तक का समय विंडो पीरियड कहलाता है, विंडो पीरियड के बाद ही टेस्ट में एड्स को पॉजिटिव दिखाया जाता है चाहे टेस्ट के चार पांच महीने पहले ही व्यक्ति संक्रमित (infected) हो चुका हो लेकिन जब तक वह विंडो पीरियड में होता है नेगेटिव ही रिजल्ट आता है। {शुगर में क्या कैसे खाना चाहिए}
इसके कई सारे प्रमुख लक्षण दिखाई देते है जैसे की -
  1. शरीर के निचले हिस्सों (abdomen) में हमेशा दर्द का रहना और दर्द की जगहों पर सूजन (swelling) रहना।
  2. पूरे शरीर में थकान (fatigue) रहना, 
  3. बुखार (fever) रहना, 
  4. भूख ना लगना, (loss of apatite) 
  5. पसीना ज्यादा आना, (sweatting) 
  6. रात के समय पसीना आना।(night sweating)
  7. सूखी खांसी होना। (dry cough)
  8. उल्टियां आना,(vomiting) 
  9. लगातार पतले दस्त रहना,(persistent diarrhoea) 
  10. मतली आना,(nausea)
  11. मुंह और जीब में छालों का होना।(mouth ulcers)
  12. अवसरवादी संक्रमण (infection) का होना, 
  13. सिरदर्द,(headache) 
  14. मौखिक थ्रश,(oral thrush) 
  15. निमोनिया,(pneumonia) 
  16. अनजाने में वजन घटना,(weight lose) 
  17. त्वचा की में रेशे पड़ जाना,(skin rash) 
  18. लिम्फ नोड्स का सूज जाना (swollen lymph nodes)
  19. शरीर में कमजोरी का बढ़ते जाना (weakness) 
  20. हमेशा तरह तरह की बिमारियों से घिरे रहना जैसी बहुत सारे लक्षण (symptoms) देखने को मिलते हैं। {कील मुहांसों का पक्का इलाज}

HIV AIDS कारण क्या क्या हो सकते है

Hiv aids के लिये बहुत सारे कारण जिम्मेदार हो सकते है जिनमे से कुछ मुख्या कारण (main cause) यहाँ बताये जा रहे है कोई भी व्यक्ति Hiv के संपर्क में आ सकता है यह वायरस शारीरिक तरल (body fluid) के माध्यम से फैलता है जिसमे -
रक्त (blood)
वी-र्य (se-men)
यो-नि और गु-दा से निकला तरल पदार्थ (vag-inal or an-al fluid)
माँ का दूध (milk)
मुख्य हैं इसके आलावा कुछ और (way) तरीके है जिनके माध्यम से यह फ़ैल सकता है जैसे की -
  • यो-नि और गु-दा मै-थुन संक्रमण का सबसे आम मार्ग है, 
  • विशेष रूप से पुरुषों के साथ संबंध रखने वाले पुरुषों में भी यह रोग पाया जाता है।
  • संक्रमित (infected) सुइयों, सिरिंज, और अन्य वस्तुओं को साझा (share) करने पर भी यह रोग (hiv aids) पैदा हो सकता है।
  • संक्रमित व्यक्ति के निजी उपयोग (personaly) में लिए जाने वाले बिना स्टरलाइज किये हुए उपकरणों से भी यह रोग फ़ैल सकता है।
  • गर्भावस्था (pregnancy) या किसी महिला के द्वारा अपने बच्चे के प्रसव के दौरान hiv के आ जाने के कारण भी यह रोग पैदा हो सकता है।
  • संक्रमित (infected) महिला के द्वारा अपने बच्चे को दूध पिलाने से भी इसका संचार (transmission) हो सकता है।
  • किसी भी संक्रमित (infected) व्यक्ति के रक्त (blood) के संपर्क में आने से भी यह रोग हो जाता है।
  • साथ ही ब्लड ट्रांसफ्यूजन और बॉडी पार्ट और टिश्यू ट्रांसप्लांट के माध्यम से भी यह गम्भीर बीमारी हो सकती है। {चेहरे पर तुरंत निखार के लिए ऐसे करें सब्जियों का प्रयोग}

HIV AIDS के लिए एंटी रेट्रो वायरल इलाज

अब तक यह इलाज मौजूद नहीं था लेकिन अब इस थेरेपी के माध्यम से कुछ हद तक HIV की संख्या पर रोक लगाई जा सकती है और इसे ख़त्म किया जा सकता है, केंद्रीय अस्पातालों में एड्स का फ्री इलाज दिया जाता है, जिसके लगातार प्रयोग से HIV AIDS को ख़त्म किया जा सकता है लेकिन इसकी समाय अवधि (Duration) ज्यादा होने के कारण लोगों द्वारा या तो इसे बीच में ही छोड़ दिया जाता है या फिर थोड़ी बहुत कंडीशन सुधरने पर ध्यान नहीं दिया जाता, इसी वजह से यह पूरी तरह कवर नहीं हो पाता है, HIV AIDS रोग की दवाएं एक साल या ज्यादा दिनों तक ली जाने वाली होती हैं।

एड्स का पक्का इलाज 2020 | Aids Ke Lakshan | Aids Kaise Hota Hai | Hiv Ka Ilaj | Hiv Ke Lakshan.

पुराने ज़माने में हमारे ऋषि मुनियों ने ऐसे ऐसे उपाय और औसधियों के बारे में बताया था जो इतनी अचूक और असरदार थी की शरीर में चाहे कैसा भी रोग हो A से लेकर Z तक सभी के लिए रामबाण की तरह काम करती है, ऐसी ही कुछ औसधियों के बारे में हम आपको यहाँ बताने वाले हैं।
इसके लिए आपको पंचगव्य और गुग्गल धूंप को काम में लेना है पंचगव्य और गुग्गल धूंप अपने आपमें इतनी असरदार है की इनमें से एक का भी प्रयोग खाली नहीं जायेगा. इनका असर 100% होगा यह तय है लेकिन इन्हे तैयार करने और प्रयोग में लाने के लिए आपको बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ेगी, लेकिन साथ ही यह तय हो जायेगा की आपमें HIV AIDS नाम की कोई बीमारी ही नहीं है।
इन्हे तैयार करने के लिए आपको सबसे पहले देसी गाय के गोबर को किसी साफ़ व पतले कपडे में लेकर छान लेना है लगभग दो चम्मच की मात्रा में गोबर का रस निकलना है अब उतनी ही मात्रा में आपको देसी गाय का शुद्ध घी, मूत्र, धहि, और दूध सभी को उतनी ही मात्रा में लेकर एक पेय तैयार करना है यानि की दो चम्मच गोबर रस, दो चम्मच दूध, दो चम्मच धहि, ऐसे करके पांचो अमृत को लेकर उन्हें मिलाकर रोज पीना है।
{और पड़ें... अनचाहे गर्भ से कैसे छुटकारा पाएं}
इसके साथ ही आपको गुग्गल धूंप का प्रयोग करना है इसे प्रयोग में लाने के सबसे पहले इसे शुद्ध करना होता है, गुग्गल धूंप को शुद्ध करने के लिए बहुत अधिक मेहनत करनी होती है।
इसके लिए आपको उच्च गुणवत्ता की एक किलो ग्राम गुग्गल धूंप चाहिए होगी और इसे शुद्ध करने के लिए चाहिए होगा देसी गाय का 3 किलो ग्राम शुद्ध दूध।
सबसे पहले आपको 3kg. दूध को गर्म करना है और इसमें एक किलो ग्राम गुग्गल धूंप डाल देनी है और इसे अच्छे से पकाना है जब तक की धूंप और दूध अच्छे से ना मिल पाए जब यह पूरी तरह मिल जाये तब इसे ठंडा होने के लिए छोड़ दें. लगभग 10-12 घंटे बाद इसमें से धीरे धीरे ऊपर से दूध को अलग कर लें दूध अलग करने के बाद जो पदार्थ शेष बचता है वही है शुद्ध गुग्गल धूंप अब इसे और अधिक शुद्ध करने के लिए इस पर हमें चोट करनी होती है।
{और पड़ें... पथरी का रामबाण इलाज}
इसे शुद्ध करने के लिए किसी दस्ते में इस अवशेष को डाल कर हत्थे से लगातार चोट करें, तक़रीबन एक घंटे तक लगातार चोट करने के बाद इसमें दो बूँद शुद्ध देसी गाय के घी की मिक्स करें, इसके बाद फिर यही प्रक्रिया दोहराये लगभग एक घंटे लगातार चोट करने के बाद दो बूंदे गाय के घी की मिक्स करे, इस तरह आपको कम से कम आधा कप घी इसमें समा देना है जब पूरा आधा कप घी इसमें समां जाये तब इसकी चने के समान गोलियां बनाकर किसी साफ सुधरे जार में भर कर रख देनी हैं और रोज नियमित रूप से पंचगव्य के साथ एक गोली का इस्तेमाल करें और लगातार इनका इस्तेमाल लगभग 390 दिनों तक जरूर करें, यकीन मानिये यह hiv aids का सबसे बेहतर अचूक और असरदार इलाज है लेकिन नियमित रूप से आपको इसे अपने प्रयोग में लाना है, चाहे कुछ भी हो अगर आपको hiv aids जड़ से ख़त्म करनी है तो यह आपको करना ही होगा।
आप चाहे कोई भी थेरेपी लो उसका साल दो साल से कम का कोई कोर्स नहीं है जो आपकी इस बीमारी को ख़त्म कर दें इसकी समयावधि ज्यादा है इसीलिए इसका इलाज भी लम्बा ही चलता है।
यदि आप कोई भी एड्स की दवा ले रहे हो तो भी आप इसका प्रयोग कर सकते हो साथ ही नियमित रूप से अपने डॉक्टर की सलाह लेते रहे।
इन सब के आलावा आपको इसके कारणों यानि की जिन जिन वजह से यह फैलता या पैदा होता है या होने का खतरा होता है उनसे हमेशा दूरी बनाए रखें। {और पढ़े - लम्बे समय तक जवानी बरकरार रखने का तरीका}

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें