गुडहल (hibiscus oil) के फूलों का तेल कैसे बनाये | gudhal ke phoolo ka tel banane ki vidi.

गुडहल के फूलों का तेल कैसे बनाये (gudhal ke phoolo ka tel banane ki vidi) - कई बार हमारे शरीर से जुडी कई समस्याओ के लिए हमें (hibiscus oil) यानि गुड़हल के तेल की को इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। लेकिन समस्या ये होती की गुडहल का तेल बनाये कैसे या गुडहल का तेल बनाने की विधि क्या है। तो इन्ही सब सवालों के जवाब लेकर हम यहाँ उपस्थित है। जहाँ हम बताएँगे गुड़हल के फूलों का तेल सही तरीके से कैसे बनाया जाता है। ताकि यह हमारे लिए उतना ही फायदेमंद हो जितना हम चाहते है।
गुडहल (Hibiscus Oil) के फूलों का तेल कैसे बनाये | Gudhal Ke Phoolo Ka Tel Banane Ki Vidi.
इस तेल को तैयार करने के लिए आपको फूल और किसी भी एक अच्छे से तेल के सही अनुपात का पता होना चाहिए, ताकि इसे प्रोपर तरीके से बनाया जा सके।

गुडहल (hibiscus oil) के फूलों का तेल कैसे बनाये | gudhal ke phoolo ka tel banane ki vidi.

यहां एक बात ध्यान देने योग्य यह है कि हम यदि गुड़हल का तेल अपने बालों के लिए बना रहे हैं तो सबसे अच्छा तेल नारियल का तेल ही होता है, जो कि बालों की जड़ो में पहुँच कर आपको अच्छा परिणाम देता है और अगर आप इसे अपनी स्किन के लिए बनाना चाहते हो तो तिल्ली या फिर बादाम का तेल सबसे बेस्ट होता है। इन्हें बनाने का तरीका एक समान ही होता बस फर्क सिर्फ इतना है कि स्किन के लिए बनाए जाने वाले तेल में आप अगल से और भी कई चीजों का प्रयोग कर सकते हो, जैसे कुछ बूंदे निम्बू के रस की या एलोवेरा जैल की ताकि त्वचा को और भी अच्छे से स्वस्थ रखा जा सके। {अनचाहे गर्भ से कैसे छुटकारा पाए}

गुड़हल का तेल बनाते समय ध्यान देने योग्य बातें -

इसको तैयार करने से पहले कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखा जाता है जैसे कि जिस कढ़ाई या बर्तन में इस तेल को बनाया जाय वह एकदम लोहे की होनी चाहिए। इसके लिए आप सिल्वर या स्टील की कढ़ाई का इस्तेमाल नही कर सकते। इसके पीछे एक कारण है वह यह है कि इस तेल को अच्छे से पकने और तैयार होने के लिए भिमी आंच की जरूरत होती है, जो उसे लोहे की कढ़ाई ही दे सकती है। इसके अलावा आप तेल बनाने के लिए जितने भी फूलों का प्रयोग करे, वे सभी ताजे नही होने चाहिए और न ही सूखे हुए हो बस थोड़े से मुरझाये हुए हों तो बेहतर होगा। इससब के अलावा एक नियमित और भिमी आंच की जरूरत होगी जिसके लिए हीटर या गैस बेहतर होगा, इन सभी बातों का ध्यान रख कर ही इस तेल को तैयार किया जाताहै। {पथरी का अचूक और रामबाण इलाज}

गुड़हल के फूलों का तेल बनाने की विधि (hibiscus oil preparation)

तो चलिए जान लेते है, कि इसे बनाया कैसे जाता है - इसके लिए आप यदि 200 ग्राम नारियल का तेल इस्तेमाल कर रहे हो, तो उस हिसाब से आपको गुड़हल के 8 से 10 फूलों की आवश्यकता होगी। इसी अनुपात में आप इसे कम या ज्यादा भी बना सकते हो, जैसे यदि आप केवल 100 ग्राम तेल ही बना रहे हो तो इसके लिए 4 से 6 फूलों की ही जरूरत पड़ेगी। {हमेशा स्वास्थ्य रहने के लिए जरुरी सलाह}
इसके बाद लोहे की कढ़ाई को हीटर की हल्की आंच में गरम होने दीजिए, जब यह ठीक से गरम हो जाए तब इसमे 200 ग्राम नारियल का तेल डाल दीजिये और इसके पकने का इन्तेजार कीजिये। जब यह पक कर तैयार हो जाये तबआप इसमें गुड़हल के फूलों को डाल सकते हो, फूल डालने के बाद लगातार अदल बदल करते हुए भिमी आंच पर पकाते रहे, जब तक कि इसमें डाले गए फूल अच्छे से पक कर एक जुट न हो जाये। काले पड़ने के बाद अपने हीटर या गैस को बंद कर दीजिए और इसे ठंडा होने के लिए छोड़ दे, करीब 5 से 6 घंटे बाद यह पूरी तरह ठण्डा हो जाये तब इन फूलों को अच्छे से निचोड़ कर छान लीजिये और किसी कांच या प्लास्टिक की बोतल में भर कर रख दीजिए।
इसका प्रयोग आप साधारण तेल के रूप मे कर सकते हो, साथ ही रात को सोते समय इसका प्रयोग बालों पर मसाज के लिये कर सकते हो। यह गंजेपन, बहुत अधिक झड़ते बाल, सफेद बाल और दो मुहे बाल आदि सभी तरह की बालों की समस्याओं के लिए यह एक बेजोड़ और अचूक औषधि के रूप में काम करता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें